Thursday, October 20, 2005

कहाँ है तू

कोयल की कूक में
पपीहे की हूक में

बसन्त बयार में
तूफानी घोर रव में

हिमगिरि के हिम में
ज्वालामुखी की लपट में

उषा की लालिमा में
रात्रि की कालिमा में

योगी के योग में
भोगी के भोग में

छिपा है तू ही अतल की गहराई में
और हिमालय की चोटी में

वीणा के सुरों में
तोपों के गर्जन में

बुद्ध की करुणा में
अणुबम के ध्वंश में

कुमारी के कौमार्य में
कामिनी के कटाक्ष में

सुखियों के नन्दन में
दुखियों के क्रन्दन में

आम की मृदुता में
नीम की कटुता में

रमा है तू ही कृष्ण के रास में
और शंकर के ताण्डव में

--लक्ष्मीनारायण गुप्त
२० अक्टूबर २००५

8 comments:

Kalicharan said...

bahut bhadiya gupt ji, yeh kavita to kisi rashtiya star ki pustak main chapni chahiye.

Laxmi N. Gupta said...

कालीचरन जी,

धन्यवाद। मुझे खुशी है कि कविता आपको अच्छी लगी।

roop hans habeeb said...

bahut acchi hai simple and deep thoughts. keep it up

Laxmi N. Gupta said...

Habeeb jii,

protsaahan ke liye dhanyawaad.

divinepleasure said...

that was a superb poem sir

after readin it I guess you got one more trivial name in ur fan's list

keep it up

keep posting these awesome gems

Laxmi N. Gupta said...

Divine Pleasure,

Very well chosen name. We are all sparks of the same divine so none of us is trivial. I am genuinely pleased to have you as a fan sir/madam. Thank you.

divinepleasure said...

hi Mr.Laxmi

this is abhishek chauhan
21 years old guy from india

and thnx for the appreciation for the chosen name i.e.divinepleasure

and dont call me sir from now ... cause i guess u r much older than me

Laxmi N. Gupta said...

Dear Abhishek,

It is true. I have children older than you. Thanks for writing.